भगवद गीता अध्याय 6.2 ~ आत्म-उद्धार की प्रेरणा और भगवत्प्राप्त पुरुष के लक्षण एवं एकांतसाधना के महत्व आदि  का  वर्णन

भगवद गीता अध्याय 6.2 ~ आत्म-उद्धार की प्रेरणा और भगवत्प्राप्त पुरुष के लक्षण एवं एकांतसाधना के महत्व आदि का वर्णन

अध्याय छह  (Chapter -6) भगवद गीता अध्याय 6.2  में शलोक 05 से  शलोक 10  तक आत्म-उद्धार की प्रेरणा और भगवत्प्राप्त पुरुष …

Read more