भगवद गीता अध्याय 18.3~तीनों गुणों ज्ञान ,कर्म ,कर्ता ,बुद्धि ,धृति,सुख के पृथक-पृथक भेद

भगवद गीता अध्याय 18.3~तीनों गुणों ज्ञान ,कर्म ,कर्ता ,बुद्धि ,धृति,सुख के पृथक-पृथक भेद

अध्याय अठारह (Chapter -18) भगवद गीता अध्याय 18.3  में शलोक 19  से  शलोक  40 तीनों गुणों के अनुसार ज्ञान, कर्म, …

Read more