भगवद गीता – अध्याय 6.3 ~ आसन विधि, परमात्मा का ध्यान, योगी के चार प्रकार का  वर्णन / Bhagwad Geeta Chapter -6   

Table of Contents

अध्याय छह  (Chapter -6)

भगवद गीता – अध्याय 6  में शलोक 11 से  शलोक 15  तक आसन विधि, परमात्मा का ध्यान, योगी के चार प्रकार का वर्णन !

शुचौ   देशे   प्रतिष्ठाप्य  स्थिरमासनमात्मनः ।    

     नात्युच्छ्रितं  नातिनीचं  चेलाजिनकुशोत्तरम् ॥ ११ ॥

तत्रैकाग्रं   मनः   कृत्वा   यतचित्तेन्द्रियक्रियः । 

      उपविश्यासने     युञ्ज्याद्योगमात्मविशुद्धये ॥ १२ ॥

शुचौ  –  पवित्र  ;  देशे  –  भूमि में  ;   आत्मनः  –  स्वयं का   ;  न  –  नहीं    ;  नीचम्  –  निम्न , नीचा  ;   उत्तरम्  –   आवरण  ;   तत्र  –  उस पर   ;  प्रतिष्ठाप्य  –  स्थापित करके  ;   स्थिरम्  –  दृढ  ;   आसनम्  –  आसन  ;  अति  –  अत्यधिक   ;   उच्छ्रितम्  –  ऊँचा  ;   न  –  न तो  ;  अति  –  अधिक ;   चेल-अजिन   –  मुलायम वस्त्र तथा मृगछाला  ;   कुश  –  तथा कुशा का  ;   एक-अग्रम्  –  एकाग्र ;   मनः  –  मन  ;  कृत्वा  –  करके  ;  यत-चित्त  –  मन को वश में करते हुए  ;   इन्द्रिय  –  इन्द्रियाँ ;     क्रियः  –  तथा क्रियाएं  ;   उपविश्य  –  वैठकर  ;   आसने  –  आसन पर   ;   युयात्  –  अभ्यास करे ;  योगम्  –   योग  ;   आत्म  –  हृदय की  ;   विशुद्धये  –  शुद्धि के लिए

 योगाभ्यास के लिए योगी एकान्त स्थान में जाकर भूमि पर कुशा विछा दे और फिर उसे मृगछाला से ढके तथा ऊपर से मुलायम वस्त्र बिछा दे । आसन न तो बहुत ऊँचा हो , न बहुत नीचा । यह पवित्र स्थान में स्थित हो । योगी को चाहिए कि इस पर दृढ़तापूर्वक बैठ जाय और मन , इन्द्रियों तथा कर्मों को वश में करते हुए तथा मन को एक बिन्दु पर स्थिर करके हृदय को शुद्ध करने के लिए योगाभ्यास करे ।

 तात्पर्य :  पवित्र स्थान ‘ तीर्थस्थान का सूचक है । भारत में योगी तथा भक्त अपना घर कर प्रयाग , मथुरा , वृन्दावन , हृषीकेश तथा हरिद्वार जैसे पवित्र स्थानों में वास करते हैं और एकान्तस्थान में योगाभ्यास करते हैं , जहाँ यमुना तथा गंगा जैसी नदियाँ प्रवाहित होती हैं । किन्तु प्रायः ऐसा करना सबों के लिए , विशेषतया पाश्चात्यों के लिए , सम्भव नहीं है ।

बड़े – बड़े शहरों की तथाकथित योग समितियाँ भले ही धन कमा लें , किन्तु वे योग के वास्तविक अभ्यास के लिए सर्वथा अनुपयुक्त होती हैं । जिसका मन विचलित है और जो आत्मसंयमी नहीं है , वह ध्यान का अभ्यास नहीं कर सकता । अतः बृहन्नारदीय पुराण में कहा गया है कि कलियुग ( वर्तमान युग ) में , जबकि लोग अल्पजीवी , आत्म साक्षात्कार में मन्द तथा चिन्ताओं से व्यग्र रहते हैं , भगवत्प्राप्ति का सर्वश्रेष्ठ माध्यम भगवान् के पवित्र नाम का कीर्तन है

हरेर्नाम       हरेर्नाम       हरेनामैव     केवलम् ।

कलौ   नास्त्येव  नास्त्येव  नास्त्येव  गतिरन्यथा ॥

“ कलह और दम्भ के इस युग में मोक्ष का एकमात्र साधन भगवान् के पवित्र नाम का कीर्तन करना है । कोई दूसरा मार्ग नहीं है । कोई दूसरा मार्ग नहीं है । कोई दूसरा मार्ग नहीं है । ” 

समं    कायशिरोग्रीवं     धारयन्नचलं    स्थिरः ।

         सम्प्रेक्ष्य  नासिकाग्रं  स्वं  दिशश्चानवलोकयन् ॥ १३ ॥ 

प्रशान्तात्मा     विगतभीब्रह्मचारिव्रते    स्थितः ।

        मनः  संयम्य  मच्चित्तो  युक्त  आसीत  मत्परः ॥ १४ ॥

समम्   –  सीधा  ;   काय  –  शरीर   ;   शिर:   –  सिर   ;  ग्रीवम्   –  तथा गर्दन को  ;  धारयन् – रखते हुए   ;   अचलम्  –  अचल  ;   स्थिर:  –  शान्त  ;   सम्प्रेक्ष्य   –  देखकर  ;  नासिका   –  नाक के   ;   अग्रम्  –  अग्रभाग को   ;  स्वम्   –  अपनी  ;   दिश:  –  सभी दिशाओं में  ;  च  –  भी   ;   अनवलोकयन्   –   न देखते हुए   ;   प्रशान्त   –  अविचलित  ;   आत्मा  –  मन  ;   विगत-भीः  – भय से रहित  ;   ब्रह्मचारि-व्रते   –  ब्रह्मचर्य व्रत में   ;  स्थितः  –  स्थित  ;  मनः  –  मन को  ;  संयम्य  –    पूर्णतया दमित करके   ;   मत्   –  मूझ ( कृष्ण ) में  ;   चित्तः  –  मन को केन्द्रित करते हुए   ;  युक्त:  –  वास्तविक योगी   ;   आसीत   –  बैठे  ;   मत्  –  मुझमें   ;  पर:  –  चरम लक्ष्य । 

योगाभ्यास करने वाले को चाहिए कि वह अपने शरीर , गर्दन तथा सिर को सीधा रखे और नाक के अगले सिरे पर दृष्टि लगाए । इस प्रकार वह अविचलित तथा दमित मन से , भयरहित , विषयीजीवन से पूर्णतया मुक्त होकर अपने हृदय में मेरा चिन्तन करे और मुझे ही अपना चरमलक्ष्य बनाए । 

तात्पर्य : जीवन का उद्देश्य कृष्ण को जानना है जो प्रत्येक जीव के हृदय में चतुर्भुज परमात्मा रूप में स्थित हैं । योगाभ्यास का प्रयोजन विष्णु के इसी अन्तर्यामी रूप की खोज करने तथा देखने के अतिरिक्त और कुछ नहीं है । अन्तर्यामी विष्णुमूर्ति प्रत्येक व्यक्ति के हृदय में निवास करने वाले कृष्ण का स्वांश रूप है ।

जो इस विष्णुमूर्ति की अनुभूति करने के अतिरिक्त किसी अन्य कपटयोग में लगा रहता है , वह निस्सन्देह अपने समय का अपव्यय करता है । कृष्ण ही जीवन के परम लक्ष्य हैं और प्रत्येक हृदय में स्थित विष्णुमूर्ति ही योगाभ्यास का लक्ष्य है । हृदय के भीतर इस विष्णुमूर्ति की अनुभूति प्राप्त करने के लिए ब्रह्मचर्यव्रत अनिवार्य है , अतः मनुष्य को चाहिए कि घर छोड़ दे और किसी एकान्त स्थान में बताई गई विधि से आसीन होकर रहे ।

नित्यप्रति घर में या अन्यत्र मैथुन भोग करते हुए और तथाकथित योग की कक्षा में जाने मात्र से कोई योगी नहीं हो जाता । उसे मन को संयमित करने का अभ्यास करना होता है और सभी प्रकार की इन्द्रियतृप्ति से , जिसमें मैथुन – जीवन मुख्य है , बचना होता है । महान ऋषि याज्ञवल्क्य ने ब्रह्मचर्य के नियमों में बताया है 

कर्मणा  मनसा  वाचा  सर्वावस्थासु  सर्वदा ।

सर्वत्र    मैथुनत्यागो    ब्रह्मचर्यं      प्रचक्षते ॥

” सभी कालों में , सभी अवस्थाओं में तथा सभी स्थानों में मनसा वाचा कर्मणा मैथुन भोग से पूर्णतया दूर रहने में सहायता करना ही ब्रह्मचर्यव्रत का लक्ष्य है । ” मैथुन में प्रवृत्त रहकर योगाभ्यास नहीं किया जा सकता । इसीलिए वचपन से जब मैथुन का कोई ज्ञान भी नहीं होता ब्रह्मचर्य की शिक्षा दी जाती है ।

पाँच वर्ष की आयु में बच्चों को गुरुकुल भेजा जाता है , जहाँ गुरु उन्हें ब्रह्मचारी बनने के दृढ नियमों की शिक्षा देता है । ऐसे अभ्यास के बिना किसी भी योग में उन्नति नहीं की जा सकती , चाहे वह ध्यान हो , या कि ज्ञान या भक्ति । किन्तु जो व्यक्ति विवाहित जीवन के विधि – विधानों का पालन करता है और अपनी ही पत्नी से मैथुन सम्वन्ध रखता है वह भी ब्रह्मचारी कहलाता है ।

ऐसे संयमशील गृहस्थ – ब्रह्मचारी को भक्ति सम्प्रदाय में स्वीकार किया जा सकता है , किन्तु ज्ञान तथा ध्यान सम्प्रदाय वाले ऐसे गृहस्थ – ब्रह्मचारी को भी प्रवेश नहीं देते । उनके लिए पूर्ण ब्रह्मचर्य अनिवार्य है । भक्ति सम्प्रदाय में गृहस्थ – ब्रह्मचारी को संयमित मैथुन की अनुमति रहती है , क्योंकि भक्ति सम्प्रदाय इतना शक्तिशाली है कि भगवान् की सेवा में

लगे रहने से वह स्वतः ही मैथुन का आकर्षण त्याग देता है । भगवद्गीता में ( २.५ ९ ) कहा गया है –

विषया   विनिवर्तन्ते  निराहारस्य   देहिनः ।

रसवर्ज   रसोऽप्यस्य  परं  दृष्ट्वा  निवर्तते ॥

जहाँ अन्यों को विषयभोग से दूर रहने के लिए वाध्य किया जाता है वहीं भगवद्भक्त भगवद्रसास्वादन के कारण इन्द्रियतृप्ति से स्वतः विरक्त हो जाता है । भक्त को छोड़कर अन्य किसी को इस अनुपम रस का ज्ञान नहीं होता । 

विगत – भी : पूर्ण कृष्णभावनाभावित हुए विना मनुष्य निर्भय नहीं हो सकता । बद्धजीव अपनी विकृत स्मृति अथवा कृष्ण के साथ अपने शाश्वत सम्बन्ध की विस्मृति के कारण भयभीत रहता है । भागवत का ( ११.२.३७ ) कथन है –

भयं द्वितीयाभिनिवेशतः स्याद् ईशादपेतस्य विपर्ययोऽस्मृतिः । कृष्णभावनाभावित व्यक्ति ही योग का पूर्ण अभ्यास कर सकता है और चूँकि योगाभ्यास का चरम लक्ष्य अन्तःकरण में भगवान् का दर्शन पाना है , अतः कृष्णभावनाभावित व्यक्ति पहले ही समस्त योगियों में श्रेष्ठ होता है । यहाँ पर वर्णित योगविधि के नियम तथाकथित लोकप्रिय योग – समितियों से भिन्न है । 

युञ्जन्त्रेवं   सदात्मानं   योगी   नियतमानसः ।  

        शान्तिं  निर्वाणपरमां  मत्संस्थामधिगच्छति ॥ १५ ॥ 

युञ्जन्  –  अभ्यास करते हुए   ;   एवम्  –  इस प्रकार से   ;   सदा  –  निरन्तर   ;  आत्मानम्  –  शरीर , मन तथा आत्मा   ;   योगी  –   योग का साधक   ;   नियत-मानसः  –   संयमित मन से युक्त  ; शान्तिम्   –   शान्ति को   ;   निर्वाण-परमाम्   –  भौतिक अस्तित्व का अन्त   ;  मत्- संस्थाम्  –   चिन्मयव्योम ( भगवद्धाम ) को   ;   अधिगच्छति   –  प्राप्त करता है

 इस प्रकार शरीर , मन तथा कर्म में निरन्तर संयम का अभ्यास करते हुए संयमित मन वाले योगी को इस भौतिक अस्तित्व की समाप्ति पर भगवद्धाम की प्राप्ति होती है । 

तात्पर्य : अब योगाभ्यास के चरम लक्ष्य का स्पष्टीकरण किया जा रहा है । योगाभ्यास किसी भौतिक सुविधा की प्राप्ति के लिए नहीं किया जाता , इसका उद्देश्य तो भौतिक संसार से विरक्ति प्राप्त करना है । जो कोई इसके द्वारा स्वास्थ्य लाभ चाहता है या भौतिक के सिद्धि प्राप्त करने का इच्छुक होता है वह भगवद्गीता के अनुसार योगी नहीं है । न ही भौतिक अस्तित्व की समाप्ति का अर्थ शून्य में प्रवेश है क्योंकि यह कपोलकल्पना है ।

भगवान् की सृष्टि में कहीं भी शून्य नहीं है । उल्टे भौतिक अस्तित्व की समाप्ति से मनुष्य भगवद्धाम में प्रवेश करता है । भगवद्गीता में भगवद्धाम का भी स्पष्टीकरण किया गया है कि यह वह स्थान है जहाँ न सूर्य की आवश्यकता है , न चाँद या बिजली की । आध्यात्मिक राज्य के सारे लोक उसी प्रकार से स्वतः प्रकाशित हैं , जिस प्रकार सूर्य द्वारा यह भौतिक आकाश ।

वैसे तो भगवद्धाम सर्वत्र है , किन्तु चिन्मयव्योम तथा उसके लोकों को ही परमधाम कहा जाता है । एक पूर्णयोगी जिसे भगवान् कृष्ण का पूर्णज्ञान है जैसा कि यहाँ पर भगवान् ने स्वयं कहा है ( मच्चितः , मत्परः , मत्स्थानम् ) वास्तविक शान्ति प्राप्त कर सकता है और अन्ततोगत्वा कृष्णलोक या गोलोक वृन्दावन को प्राप्त होता है ।

ब्रह्मसंहिता में ( ५.३७ ) स्पष्ट उल्लेख है- गोलोक एव निवसत्यखिलात्मभूत – यद्यपि भगवान् सदेव अपने धाम में निवास करते हैं , जिसे गोलोक कहते हैं , तो भी वे अपनी परा आध्यात्मिक शक्तियों के कारण सर्वव्यापी ब्रह्म तथा अन्तर्यामी परमात्मा हैं । कोई भी कृष्ण तथा विष्णु रूप में उनके पूर्ण विस्तार को सही – सही जाने बिना बैकुण्ठ में या भगवान् के नित्यधाम ( गोलोक वृन्दावन ) में प्रवेश नहीं कर सकता ।

अतः कृष्णभावनाभावित व्यक्ति ही पूर्णयोगी है क्योंकि उसका मन सदैव कृष्ण कार्यकलापों में तल्लीन रहता है ( सवे मनः कृष्णपदारविन्दयोः ) । वेदों में ( श्वेताश्वतर उपनिषद् ३.८ ) भी हम पाते हैं – तमेव विदित्वाति मृत्युमंति केवल भगवान् कृष्ण को जानने पर जन्म तथा मृत्यु के पथ को जीता जा सकता है । दूसरे शब्दों में , योग की पूर्णता संसार से मुक्ति प्राप्त करने में है , इन्द्रजाल अथवा व्यायाम के करतवों द्वारा अवोध जनता को मूर्ख बनाने में नहीं । 

Leave a Comment

" target="_blank" rel="nofollow">
Sharing Hub : " target="_blank" rel="nofollow">