सम्पूर्ण भगवद गीता हिंदी में~ Powerful Shrimad Bhagavad Gita In Hindi 18 Chapters

Sampurn Shrimad Bhagwat Geeta In Hindi _ संपूर्ण श्रीमद भगवद गीता हिंदी में

Sampurn Shrimad Bhagavad Gita भगवद गीता, भगवद गीता ,भगवद गीता ,भगवद गीता, भगवद गीता, भगवद गीता, भगवद गीता, भगवद गीता नीचे दिए गए टेबल में सम्पूर्ण भगवद गीता गीता हिंदी …

Read more

भगवद गीता अध्याय 4.3 ~ कर्म में अकर्मता-भाव, नैराश्य-सुख, यज्ञ की व्याख्या / Powerful Bhagavad Gita Karm-Akarmta or Nairashy Ch4.3

श्रीमद भगवद गीता – अध्याय 4 ~ कर्म में अकर्मता-भाव, नैराश्य-सुख, यज्ञ की व्याख्या

अध्याय चार (Chapter -4) भगवद गीता अध्याय 4.3 ~ में शलोक 19 से  शलोक 23  तक  कर्म में अकर्मता-भाव, नैराश्य-सुख, यज्ञ की व्याख्या का वर्णन किया गया है !  यस्य  सर्वे  समारम्भाः  कामसंकल्पवर्जिताः …

Read more

हनुमान जी की आरती~आरती  कीजै  हनुमान  लला  की || Powerful hanuman ji ki aarti 1

आरती श्री हनुमानजी की

मंगलवार के दिन बजरंगबली को प्रसन्न करने के हनुमान चालीसा का जरूर करें पाठ। पूजा के समय उनकी हनुमान जी की आरती उतारना न भूलें । हनुमान जी की आरती …

Read more

शिव जी की आरती ~ॐ  जय  शिव  ओंकारा || Powerful Shiv aarti 1

आरती श्री शिव जी की

शिव जी की आरती हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, शिव त्रिमूर्ति के बीच संहारक हैं. वह योगियों के देवता हैं और एक सर्वज्ञ योगी के रूप में वर्णित हैं, जो …

Read more

व‍िष्‍णु जी की आरती~विष्णु भगवान की आरती || Powerful Vishnu ji ki aarti 1

ओउम जय जगदीश हरे आरती ~ व‍िष्‍णुजी की आरती

व‍िष्‍णु जी की आरती दुनियाँ में सबसे ज्यादा लोकप्रिय आरती ओम जय जगदीश हरे पं. श्रद्धाराम जी द्वारा लिखी गई थी । यह आरती मूलतः भगवान विष्णु को समर्पित है फिर भी …

Read more

श्री गणेश जी की आरती~ Powerful Shri Ganesh Ji Ki Aarti 1

श्री गणेश जी की आरती ~ Shri Ganesh Ji Aarti

श्री गणेश जी की आरती सभी विघ्न दूर करने के लिए गणेश भक्त बप्पा की पूजा-अर्चना करते हैं साथ ही उनकी आरती भी गाते है। वक्रतुण्ड महाकाय , सूर्यकोटि समप्रभः ।  निर्विघ्न …

Read more

भगवद गीता अध्याय 18.7~श्री गीताजी के माहात्म्य के विषय का वर्णन / Powerful Bhagavad Gita shri gitaji mahatmya Ch18.7

भगवद गीता – अध्याय 18

अध्याय अठारह (Chapter -18) भगवद गीता अध्याय 18.7 में शलोक 67 से  शलोक 78  श्री गीताजी के माहात्म्य के विषय का वर्णन ! इदं   ते   नातपस्काय    नाभक्ताय   कदाचन ।  न  चाशुश्रूषवे  वाच्यं  न  च …

Read more

भगवद गीता अध्याय 18.6~फलसहित भक्तिसहित कर्मयोग के विषय का वर्णन / Powerful Bhagavad Gita fal or bhakti karmyog Ch18.6

भगवद गीता – अध्याय 18

अध्याय अठारह (Chapter -18) भगवद गीता अध्याय 18.6 में शलोक 56 से  शलोक 66  फलसहित भक्तिसहित कर्मयोग के विषय का वर्णन ! सर्वकर्माण्यपि  सदा  कुर्वाणो  मद्व्यपाश्रयः ।  मत्प्रसादादवाप्नोति   शाश्वतं    पदमव्ययम् ॥ ५६ ॥   सर्व   – …

Read more

भगवद गीता अध्याय 18.5~वर्ण-धर्म सहित ज्ञाननिष्ठा के विषय का वर्णन / Powerful Bhagavad Gita barandharm gian nistha Ch18.5

भगवद गीता – अध्याय 18

अध्याय अठारह (Chapter -18) भगवद गीता अध्याय 18.5  में शलोक 49 से  शलोक  55  वर्ण धर्म सहित ज्ञाननिष्ठा के विषय का वर्णन ! असक्तबुद्धिः  सर्वत्र   जितात्मा   विगतस्पृहः ।  नैष्कर्म्यसिद्धिं   परमां   संन्यासेनाधिगच्छति ॥ ४९ …

Read more

भगवद गीता अध्याय 18.4~फल सहित वर्ण धर्म के विषय का वर्णन / Powerful Bhagavad Gita baran dharm Ch18.4

भगवद गीता – अध्याय 18

अध्याय अठारह (Chapter -18) भगवद गीता अध्याय 18.4 में शलोक 41  से  शलोक  48 फल सहित वर्ण धर्म के विषय का वर्णन ! ब्राह्मणक्षत्रियविशां  शूद्राणां  च   परन्तप ।  कर्माणि  प्रविभक्तानि  स्वभावप्रभवैर्गुणैः ॥ ४१ …

Read more